ग्रामीण त्रस्त प्रधान मस्त

देवरिया/उत्तर प्रदेश

स्थानीय थाना क्षेत्र के ग्राम सभा परसिया अजमेर में प्रधान के द्वारा ग्रामीणों के साथ सौतेले पन का व्यवहार किया जा रहा है। जिसे देख क्षेत्र पंचायत सदस्य आशुतोष दुबे मुन्ना बाबा आदि ने मीडिया को बताया कि हम पूरे ग्रामीणों के साथ ग्राम प्रधान के द्वारा सौतेले पन का व्यवहार किया जा रहा है। कुछ ग्रामीणों के द्वारा यह भी बताया गया कि हम लोगों का इज्जत घर बनवाने के नाम पर प्रधान के द्वारा हमें गुमराह कर पैसा ले लिया गया है। लेकिन इज्जत घर नाली खड़ंजा आदि से आज अभी हम लोग अछूता हैं। जिसके शिकायत ग्रामीणों द्वारा मुख्यमंत्री हेल्पलाइन 1076 पर किया गया था लेकिन इसका निस्तारण सरकारी दस्तावेज में कर दिया गया ग्रामीणों के अनुसार मौके पर कोई कर्मचारी तक नहीं पहुंचा जिससे ग्रामीण अत्यंत निराश होते हुए बता रहे हैं कि अब इसकी शिकायत कहां किया जाए मौके की स्थिति उसी प्रकार से बना हुआ है जहां पर यह कहना अतिशयोक्ति नहीं होगा तेरी नगरी चौपट राजा टके सेर भाजी टके सेर खाजा। इस कहानी को तो आप लोगों ने केवल एक किताबी कहानी के रूप में जाना होगा लेकिन आज ग्रामीणों की दुर्दशा एवं अधिकारियों के द्वारा प्रस्तुत किए गए दस्तावेज से आपको या कहानी पूरा हकीकत में बदलता नजर दिखाई देगा। जहां पर ग्रामीणों द्वारा शिकायत अपने न्याय पाने के लिए किया गया था लेकिन ग्रामीणों को न्याय के रूप में सिर्फ एक कागज का टुकड़ा मिला वह भी अधूरा ऐसी स्थिति में यहां के ग्रामीणों का कहना है कि उत्तर प्रदेश में दबे हुए व्यक्ति का कोई अस्तित्व नहीं है। यहां सिर्फ न्याय पैसा वालों के जेब में होता है और इनका कहना सत्य भी है जो कि आप गांव की स्थिति एवं शासन के द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट की समीक्षा कर देख सकते हैं।

Spread The Love :

Related posts

Leave a Comment